गन्ने की फसल को सफेद गिंडार से बचाएं, control of white grub (safed gindar, safed sundi) in sugarcane, Sumitomo Chemical Dantotsu


गन्‍ना एक प्रमुख नकदी फसल है (sugarcane farming), मगर सफेद गिंडार (safed sundi or white grub) के संक्रमण से इसकी खेती चौपट हो रही है। सफेद सुंडी (व्हाईट ग्रब) जिसे सफेद लट और सफेद गिंडार के नाम भी जाना जाता है गन्ने की फसल को तबाह करने लगा है। तमाम सावधानियों के बावजूद कहीं न कहीं इन कीटों का प्रकोप हर साल नजर आ ही जाता है।

सफेद गिंडार (व्हाइट ग्रब) क्या है / what is white grub: सफेद गिंडार या व्हाइट ग्रब गन्‍ने के पौधे पर आश्रित परजीवी है. व्हाइट ग्रब कीट की दो अवस्था होती है। पहली कैटरपिलर (लारवा) और दूसरी एडल्ट (पंख वाला कीट)। यह मिट्टी के अंदर रहकर गन्ने की जड़ों को खोखला कर देता है। इससे फसल सूखने लगती है। व्हाइट ग्रब कीट के एडल्ट गरमी में मिट्टी के अंदर छिपे होते हैं। जैसे ही बारिश होती है तो एडल्ट बाहर निकल आते है और नीम, अमरूद, शीशम और जामुन आदि की पत्ती खाकर निषेचन प्रक्रिया पूरी करते हैं। इसके बाद फिर से जमीन के अंदर घुसकर अंडे देते हैं। अंडों से लारवा निकलता है। 1 मादा करीब 10-20 अंडे देती है. अंडों से 7 से 13 दिनों के बाद छोटी सूंडि़यां निकलती हैं. अंडों से निकला लारवा गन्ने की जड़ खाकर बड़ा होता है। सूंड़ी द्वारा जड़ को काट देने से पूरा पौधा पीला पड़ कर सूखने लगता है. ऐसे सूंड़ी लगे पौधे उखाड़ने पर आसानी से मिट्टी के बाहर आ जाते हैं. ग्रब द्वारा जड़ों को खाने के कारण गन्ने की पत्तियां पीली पड़ कर सूखने लगती है। खेत में जगह-जगह सूखे पौधे नजर आने लगते हैं। इस कीट की दूसरी व तीसरी स्थिति की सूंडि़यां पौधों की बड़ी जड़ों को काटती हैं. खेत में कच्चा खाद डालने से इसका प्रकोप अधिक होता है।

सफेद गिंडार (व्हाइट ग्रब) के निवारक उपाय (how to control white grub)

  • मई के आखिर में जैसे ही पहली बरसात हो जाए और कीड़े निकलना शुरू हो जाएं, तो प्रकाश प्रपंच लगा देना चाहिए.
  • सुबहसुबह खेत की गहरी जुताई कर के छोड़ दें ताकि पक्षी कीड़ों को खा सकें.
  • खेत की जुताई ऐसे यंत्रों से न करें, जिन में जुताई के साथसाथ पाटा लगता हो या पाटा लगाने वाले यंत्र में 4-5 इंच की कीलें लगी होनी चाहिए ताकि कीलें सूंडि़यों को काट सकें.
  • अधिक प्रतिरोधक प्रजातियाँ उपजाएं.
  • अगली रोपाई करने से पूर्व जुताई कर शेष बचे कीटों को सामने लायें.
  • सही उर्वरकों के संतुलन के द्वारा मिट्टी की उर्वरकता स्तर को बनाये रखें.
  • अंतिम फसल के बाद, गहरी जुताई करें, फसल के अवशेषों और ठूंठों को हटा कर जला दें।.

सफेद गिंडार (व्हाइट ग्रब) की रोकथाम (ganne ki dawai) : गन्ने की फसल को सफेद गिंडार से बचने का उपाय अपनी फसल में डेनटोटसू (sumitomo dantotsu) का उपयोग करना है. इसे आप 100 ग्राम / एकड़ (dantotsu dose) के हिसाब से गन्ने की रोपाई के समय रेत और उर्वरकों के साथ मिलाकर, बीज पर स्प्रे करके, बीज को डेनटोटसू के घोल में भीगाकर उपयोग कर सकते है .

सफेद गिंडार (व्हाइट ग्रब) की रोकथाम के लिए डेनटोटसू को इस्तेमाल करने के फायदे /benefits of dantotsu in sugarcane

  • सफेद गिंडार के सभी चरणों को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करता है
  • बारिश के दिनों में भी सफेद गिंडार का अच्छा नियंत्रण होता है।
  • कई प्रकार के कीटों से लम्बी अवधि के लिए सुरक्षा देता है
  • बहुत कम मात्रा में उपयोग होने के कारण ये बहुत कम लागत में बेहतर परिणाम देता है

गन्ने में सफेद गिंडार (व्हाइट ग्रब) को नियंत्रित करने के लिए डेनटोटसू का उपयोग कैसे करें: यदि आप जानना चाहते हैं कि सफेद गिंडार (व्हाइट ग्रब) को नियंत्रित करने के लिए डेनटोटसू का उपयोग कैसे करें, तो कृपया नीचे दी गई फोटो को देखें।

डेनटोटसु के बारे में हमारे किसान भाइयों के अनुभवों को जानें

 

अधिक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पर जाएं http://dantotsu.in/

13 thoughts on “गन्ने की फसल को सफेद गिंडार से बचाएं, control of white grub (safed gindar, safed sundi) in sugarcane, Sumitomo Chemical Dantotsu

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *